Online Chhattisgarh

OnlineIndia   2017-10-15

19 साल बाद धनतेरस पर बनेंगे 5 शुभ मुहूर्त

OnlineIndia धर्म। धनतेरस को यूं तो स्वयं अबूझ मुहूर्त वाला दिन माना जाता है, पर इस बार इस दिन पांच शुभ योगों का संयोग बन रहा है। आपको बता दें कि यह योग 19 साल बाद एक साथ आ रहा है जिससे 17 अक्टूबर, मंगलवार को धनतेरस का पूरा दिन सूर्योदय से लेकर देर रात तक मंगलकारी रहेगा। वहीं इन योगों में किए गए शुभ कार्य और खरीदारी, लाभदायी व समृद्घकारी माना जाता है। माना जाता है कि धनतेरस पर भगवान धन्वंतरि की पूजा और इस दिन की गई खरीददारी अमृत के समान चिरस्थायी रहती है। 

वहीं विभिन्न ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस दिन तेरस पर पांच शुभ योग बनेंगे। इनमें पहला योग चंद्रमा व मंगल की कन्या राशि में युति रहने पर लक्ष्मी योग निर्मित होगा। दूसरा योग सूर्य व बुध के भी इसी राशि में रहने बुधादित्य योग रहेगा, तीसरा योग इसी दिन रात में सूर्य के राशि परिवर्तन करने से तुला संक्रांति योग रहेगा। चौथा योग इस दिन सूर्योदय से सर्वार्थ सिद्घि योग व पांचवां शाम को प्रदोष रहेगा। धन के देवता भगवान कुबेर का प्राकट्य प्रदोष काल में होने का शास्त्रों में उल्लेख है। धनतेरस पर मंगलवार और प्रदोष का होना अति शुभ माना गया है, इसलिए इस दिन नए व्यापारिक अनुबंध व खरीदी व्यक्ति को समृद्धि प्रदान करता है।

धनतेरस पर पूजा व खरीदी के शुभ मुहूर्त

सुबह 10.30 से दोपहर 1.30 बजे तक लाभ-अमृत

दोपहर 3.00 से 4.30 बजे तक शुभ

रात्रि 7.30 से 9.00 बजे तक लाभ

स्थिर लग्नः

वृश्चिक-सुबह 8.38 से 10.55

कुंभ - दोपहर 2.47 से 4.21

वृषभ- शाम 7.31 से रात 9.29

You Might Also Like