Online Chhattisgarh

OnlineIndia   2017-10-24

आज से शुरू हुआ चार दिवसीय छठ महापर्व, यह साल है बेहद खास

OnlineIndia धर्म। त्योहारों की भूमि पर लोक आस्था के महापर्व छठ का अनुष्ठान सोमवार से शुरू हो गया। आज छठ व्रती सात्विक भोजन ग्रहण कर व्रत का संकल्प लेंगे। बुधवार को खरना होगा जब पूरे दिन उपवास रहकर व्रती शाम को खीर-रोटी का प्रसाद ग्रहण करेंगे। 26 अक्टूबर को संध्याकालीन अर्घ्य का दिन है, इस दिन ढलते सूर्य को अर्घ्य दी जाएगी। इस पर्व में छठी मइया के साथ सूर्यदेव की आराधना की जाती है।

कार्तिक माह की षष्ठी को डूबते हुए सूर्य और सप्तमी को उगते सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है। शाम को अर्घ्य को गंगा जल के साथ देने का प्रचलन है जबकि सुबह के समय गाय के दूध से अर्घ्य दिया जाता है। यह पर्व खासतौर पर बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश में मनाया जाता है। यह पूजा नदी, तालाब, पोखर के किनारे की जाती है। 27 अक्टूबर को उदीयमान सूर्य को अर्घ्य का दिन है। इसके साथ ही चार दिनों के छठ व्रत का समापन हो जाएगा।

 

 34 साल बाद बना महासंयोग

 

छठ महापर्व 24 अक्टूबर से शुरू हो रहा है। पहले दिन मंगलवार को गणेश चतुर्थी एवं सूर्य का रवियोग भी है। ऐसा महासंयोग 34 साल बाद बन रहा है। रवियोग में छठ का विधि विधान शुरू करने से सूर्य हर कठिन मनोकामना भी पूरी करते हैं। चाहे कुंडली में कितनी भी बुरी दशा चल रही हो, चाहे शनि-राहु कितना भी भारी क्यों ना हों, सूर्य के पूजन से सभी परेशानियों का नाश हो जाएगा। ऐसे महासंयोग में यदि सूर्य को अर्घ्य देने के साथ हवन किया जाए तो आयु बढ़ती है।

 

इस साल छठ की तिथियां

 

24 अक्टूबर 2017 (चतुर्थी): नहाय-खाय

25 अक्टूबर 2017 (पंचमी): खरना

26 अक्टूबर 2017 (षष्ठी): शाम का अर्घ्य

27 अक्टूबर 2017(सप्तमी): सुबह का अर्घ्य, सूर्य छठ व्रत का समापन

You Might Also Like