Online Chhattisgarh

OnlineIndia   2017-11-30

कहीं आपकी गाड़ी 'अनफिट' तो नहीं?

OnlineIndia रायपुर। आजकल सड़क दुर्घटनाओं का सिलसिला दिनों-दिन बढ़ता ही जा रहा है, इसे कम करने और वाहनों के फिटनेस की जांच में गड़बड़ी को रोकने के लिए प्रदेश का पहला ऑटोमेटिक फिटेनस टेस्ट सेंटर रायपुर में बनाया जा रहा है। इस सेंटर का संचालन केंद्र सरकार से अधिकृत एजेंसी ही करेंगी, जिसके लिए केंद्रीय परिवहन मंत्रालय द्वारा राज्य सरकार को 14 करोड़ 40 लाख रुपए दिए जा चुके हैं।

राज्य परिवहन विभाग ने ऑटोमेटिक फिटेनस टेस्ट सेंटर रायपुर के अलावा दुर्ग और बिलासपुर में भी बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। वर्तमान में ऑटोमेटिक व्हीकल फिटनेस सेंटर रोहतक और नासिक में है। अब इसका शुभारंभ रायपुर में भी होने जा रहा है जिसका निर्माण केंद्र सरकार की एजेंसी आई कैट की मॉनीटरिंग में होगा।

इस सेंटर के बनने के बाद तीन साल तक संचालन भी आई कैट एजेंसी ही करेगी, उसके बाद वह परिवहन विभाग को सौंप देंगी। ऑटोमैटिक फिटनेस टेस्ट सेंटर में आने वाले वाहनों की जांच डिजिटल तरीके से की जाएंगी। डिजिटल मशीन से वाहनों के चेचिस नंबर को जांचा जाएगा। जिससे नंबर प्लेट बदलकर फिटनेस प्रमाणपत्र हासिल करने की गड़बड़ी पर रोक लगेगी। ऑटोमैटिक फिटनेस टेस्ट सेंटर के चलते अब केवल फिट वाहन ही सड़क पर चल पाएंगे। 

You Might Also Like